कण कण में प्रभु|

સામાન્ય

कण कण में प्रभु तु है समाया

फिरभी तुझे मैं देख न पाया|

 

सांप बिच्छू सिंह में ईश बसता

यह समझु पर मन नहीं लगता

देखी उन्हीमें मौत की छाया. . .                                   कण कण. . .

 

मुझ जैसा बनकर हरि आये

बात करे वह मेरी जबाँ में

तब होगी पुलकित मम काया. . .                                 कण कण. . .

 

मूर्त बना प्रभु संत नयनमें

मन मोहक मूर्ति के रुपमें

शिव, शक्ति, कान्हा बन आया. . .                                कण कण. . .

 

पुष्प सगुण फोरम निर्गुण है

बाष्प अरुप पानीका रुप है

रुप अरुपका भेद है पाया. . .                                     कण कण. . .

 

आसन योग कछु नहीं जानु

मंत्र स्तुति से कैसे बखानु

उर्मि प्रसाद प्रभु में लाया. . .                                       कण कण. . .

    === ॐ ===

मागसर सुद सप्तमी, बुधवार, सं. २०३९. दि. २२-१२-८२.

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s