तडप मेरे दिलकी न जाने कन्हाई।

સામાન્ય

(રાગ – મને થોડું માખણ અપાવને ઓ માવડી…)

 

 

तडप मेरे दिलकी न जाने कन्हाई।

रैन भई दिन मोहे चैन न आई…                       तडप…

 

 

असुंवनके तेल प्रेम दीप है जलाया।

ढूंढूं प्रकाशमें न देखी तेरी छाया।

यादे तेरी भुलु पर चित्तसे न जाई…                  तडप…

 

 

नैनके कलममें भ्रमर बनके आना।

स्नेहकी गलीमें तुम बंसी बजाना।

बिनती मोरी तुने क्यों ठुकराई…                      तडप…

 

 

राधाको जैसा है प्रेम तुने कीया।

रुकमनीको तुने वैसा है दिया ?

ऐसी शंका मोरे मनमें है आई…                        तडप…

 

 

पनघट पर घट भरने झटपटमें चाली।

मारी कंकरीया ओ नटवर वनमाली।

जलकी धारा तेरे पैर को भिंजाई…                   तडप…

 

 

आंसुमें जीवनकी नैया बहाई।

लेले सुकान श्याम देदे दुहाई।

हारीमें करले स्विकार ओ कन्हाई…                  तडप…

    ===ॐ===

चैत्र वद द्वादशी, सं. २०४१, मंगलवार | दि. १६-४-८५ |

Advertisements

2 responses »

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s